Search Engine क्या हैं ?

Search Engine क्या है और ये काम कैसे करता है ?

क्या आपको पता है Search Engine क्या हैं और ये काम कैसे करता हैं ? अगर नहीं तो चलिए जानते है।
Search Engine
एक ऐसा माध्यम हैं जिसके द्वारा हम web या Internet पर उपस्थित विभिन्न जानकारियों को आसानी से खोज सकते हैं। जैसे अगर हमारे मन में कोई सवाल आता हैं तो हम उसकी मदद से उस सवाल का हल बड़ी ही आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

Search Engine क्या हैं ?

सर्च इंजन एक ऐसा tool या Software हैं जिसका उपयोग करके कोई भी वेब उपयोगकर्ता (world wide web) पर उपस्थित किसी भी जानकारी को बस कुछ ही seconds में खोज सकते हैं। Internet या web
पर जो भी सवाल हम लिखते या बोलते हैं उस सवाल को Internet की भाषा में Keyword कहते हैं।
चलिए अब आपको को एक उदहारण देके समझाता हूँ, जैसे आपके मन में एक सवाल (Keyword) आता हैं की “SEO क्या हैं “तो आप Search Engine पर जाते हैं और उसपे अपने सवाल को सर्च करते हैं।
अब सर्च इंजन पहले उस सवाल को समझता हैं और फिर उन Results को हमें दिखता हैं जो हमारे द्वारा किए गए सवाल से सबसे ज्यादा मैच करता हैं और यह process वह कुछ ही Second में कर देता हैं।

Search Engine की दुनिया में सबसे प्रसिद्ध सर्च इंजन GOOGLE हैं जिसने Search Engine Market में लगभग 92 % की हिस्सेदारी पर अपना दबदबा बनाए रखा है।
आज Search Engine ने लोगो के दैनिक जीवन को काफी आसान कर दिया है। आज के जीवन में लोगो के मन में कोई भी सवाल उठता हैं या उन्हें किसी चीज के बारे में जानकारी प्राप्त करनी होती है तो वे आसानी
से प्राप्त कर लेते है।

10 प्रसिद्ध Search Engine के नाम – सर्च इंजन List

1.    Google.

2.    Bing.

3.    Yahoo.

4.    Ask.com.

5.    AOL.com.

6.    Baidu.

7.    Ecosia.

8.    DuckDuckGo.

9.    Internet Archive.

10. Yandex.

इंडियन सर्च इंजन के नाम

जहाँ इतने सारे प्रसिद्ध Search Engine दूसरे देशो के वहीं कुछ सर्च इंजन ऐसे भी है जो हमारे देश के हैं पर वे ज्यादा प्रसिद्ध नहीं हैं, तो आइये उन्हें भी जानते हैं।

1.    Guruji

2.    GISASS

3.    Bhanvad

4.    Epic Search

5.    123Khoj

Search Engine काम कैसे करता है ?

जैसा की अपने ऊपर पढ़ा होगा की Search Engine Search में हम जो भी text या सवाल लिखते या सर्च करते है उसे Keyword कहा जाता है और Search Engine उस Keyword को समझ के सबसे ज्यादा मैच
होने वाले Results को हमें दिखता है।
यह पूरा काम Search Engine तीन Steps में करता है Crawling , Indexing , Retrieval & Ranking बिना एक तीन steps के सर्च इंजन काम नहीं कर सकता तो आइए इनके बारे में विस्तार से पड़ते है।

Crawling

Crawling का मतलब होता हैं ‘ढूढ़ना’।
इस Process में सर्च इंजन एक स्वम चलित Bot जिन्हे Spider भी कहते हैं वे WWW पर उपस्थित सभी नयी पूरानी Website या Webpage पर जाते हैं और उन विभिन्न वेबपेजों पर उपस्थित डाटा को Scan या Read करता हैं और यह समझने का प्रयास करता हैं कि वह Webpage किस बारे में हैं।
Bots
वेबपेज पर उपस्थित सभी जानकारी जैसे पेज title क्या हैं , Keyword की जानकारी , Page Layout कैसा हैं , Advertise code कहाँ कहाँ Present हैं , पेज में Link कैसे use हुए और बहुत कुछ।

Spider हमारी तरफ धीरे धीरे नहीं बल्कि बहुत तेजी से डाटा को Read करते हैं। Google के मुताबित Bot 1 Second में 100 से १००० को visit और read करता हैं और जब भी कोई new या updated पेज मिलता हैं
तो यह प्रोसेस फिर से रिपीट होता हैं।

Indexing

Indexing को समझना ज्यादा मुश्किल नहीं है आप इसे आसानी से समझ सकते है। जैसा की आपने ऊपर जाना कि Crawling क्या होती है इसके बाद आता Indexing। इंडेक्सिंग एक ऐसा Process जिसमे क्रॉलिंग
के दौरान मिले डाटा को Search Engines अपने database में सहेजकर कर रखते है।

Google के मुताबित एक Crawler एक दिन में करीबन 3 Trillion Webpages को read कर लेता है। Google के पास दुनिया भर में उपस्थित लाखो करोडो Websites के डाटा को सहेज कर रखने के लिए library होती है।

Retrieval & Ranking

सर्च इंजन की working में Retrieval & Ranking आखिरी स्टेप है पर ये पहले दोनों steps से थोड़ा सा कठिन है पर इतना भी नहीं की आप समझ न सके तो आइये समझते है ।

जब आप Google या किसी भी search engine के search में कुछ भी सर्च करते हो तो वो exact वही information retrieve करता है जो आप को चाहिए लेकिन ऐसे बहुत सारे वेबपेजेस होंगे जिनपे वो इनफार्मेशन होगी जो आपको चाहिए तो यहाँ पे रोल आता है Ranking का। किसी भी webpage को रैंक करने के लिए सर्च इंजन algorithms बनाते है और केवल उन्ही वेबपेजेस को रैंक करते है जो उन algorithms को अच्छे से फॉलो करता है।

Google के पास करीब 200 ऐसे factors है जिनके माध्यम से वो ये निर्धारित करता है कि कोन सा webpage किस position पर रैंक होगा तो अगर आप ब्लॉगर हैं तो आपको article लिखते समय इन ranking factors को ध्यान में रखना होगा तभी आप आपने आर्टिकल को अच्छी रैंकिंग दे पाओगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *